Saturday, September 17, 2005

तुलसी सं‍गत शुकुल की - हैपी जन्मदिन

बचपन में सुरसा की नाक और बडेपन (या बडप्पन??) में लोगों के फटे में उंगली करने वाला कल एक और साल बासी हो गया उसी पुरानेपन की ठसक के साथ जो चावल में है, दारू में है या फिर अचार में है.

बहुत झेलना पडता है शुकुल की वजह से. इनके साथ रहने पर कुछ इस तरह के भाव प्रकट किये जाते हैं सामान्य जन द्वारा , समय-काल और परिस्थितियों के हिसाब से कभी मेरे लिये (और कभी शुकुल के लिये)

- भई , बडे-बडे आदमियों का साथ है
- ठलुआ की संगति और किससे?
- ल्यो आ गये ये भी!
- इन दोनों को बैठा रहने दो, हमलोग चलते हैं.
- इन लोगों की हंसी ही नहीं बंद हो रही है.
- तो ये कुछ काम-वाम भी करते हैं

सारी टिप्पणियों का बैलेंस-शीट बनाकर देखना है कि नफा-नुकसान कितना है.

शुकुल बडे महीन हैं, लखनऊ की गालियों की तरह - जो पडती हैं पर खाने वाले को समझ में नहीं आतीं और जब आती हैं तो बहुत देर हो चुकी होती है. शुकुल से कल बात हो रही थी तो पता चला कि शुकुल को आज २-४ ब्लाग और करीब १६ टिप्पणियां समर्पित की जा चुकी हैं. श्री शुकुल-शिकवा यह था कि किसी में खिंचाई नहीं है. (याद आयी जितेन्द्र की एक पुरानी फिल्म जिसमें बिना मार खाये उनके जोडों में दर्द रहता था). इस पर स्वाभाविक था कि किसी ने पूछा कि भई आप की खिंचाई कौन करेगा. अब जैसा कि शुकुल ने हमको सुनाया कि उन्होंने जवाब दिया था कि खिंचाई करने वाला अभी सो रहा है.
हमने भी जवाबी महीनी दिखायी बिना धन्यवाद के खींचक का खिताब मन ही मन ऐक्सेप्ट किया. पहले तो मानसिक गुदगुदी का आनंद लिया इस इशारे को अपनी तरफ समझते हुए. हमारे आलसीपने को सब सूट भी कर रहा था कि देखो कुछ करना भी नहीं पडा इसके लिये. पर बत खत्म होने के २६ मिनट बाद आफिस के प्लास्टिक वाले नकली बोधि व्रिक्ष के नीचे सूजन रूपी सुजाता की बनाई हुई काफी पीकर यह ग्यान भी जगा कि अरे अग्यानी , अगर इशारा तेरी तरफ है तो जाहिर है तुझसे ब्लाग लिखना भी अपेक्षित है.
तो इस बात को इग्नोर करते हुए कि हम चने की झाड में चढाये जाने वाले शास्त्रीय दांव में फंसा दिये गये हैं हमने सोचा कि चलो लिख ही डालते हैं. हमारे आलसीपने की छवि का हमको यह सहारा तो था कि फुरसतिया को आभास भी नहीं होगा कि हम लिख रहे हैं. विद्वान इसी तरह के इवेंट को किसी अग्यात पापड वाले को मारना बतलाते हैं.

बडे लस्सू किस्म के प्राणी हैं शुकुल. मिलो तो फीजिकली लसते हैं और न जाओ तो दिल और दिमाग के अंदर अपने लिक्खाडपने के कारण. मेरे ख्याल से आसपास के मुहल्ले से लेकर शहरों तक कोई ऐसा कवि, कथाकार, साहित्यकार नहीं बचा होगा जहां यह चिट्ठाकार अपनी कार से न पहुंच गया होगा.

कई चिट्ठाकारों द्वारा गुरुदेव के नाम से संबोधित यह गुरुघंटाल घंटी (साइकिल वाली) बजाते हुए भारत-यात्रा कर चुका है, यह शायद कम लोगों को मालूम होगा.

बनाने वाले का कम्प्यूटर क्रैश हो गया होगा (कम्प्यूटर लैंगुएज 'सी' की भाषा में कोर डम्प) ऐसे प्राणी को रचकर. शुकुल जसपाल भट्टी के वह ट्रैजिक एपिसोड हैं जिसका चयन पुरस्कार के लिये कामेडी की श्रेणी में हुआ हो.

खिंचाई को शुकुल ने कुटीर उद्योग का दर्जा दिला दिया है. हमें पता है कि कई ब्लागर बेताब हो रहे होंगे, शुकुल से अपनी खिंचाई करवाने को. इसके पहले लोगों को शायद पता भी नहीं होगा कि खिंचाई करवाने में भी इतना आनंद आता है. बकौल एक भुक्तभोगी - पहले तो थोडी तकलीफ होती है, धीरे-धीरे मजा आने लगता है.

'माई री वा मुख की मुसकान संभारी न जैहें न जैंहे' लिख्नने वाले रसखान बतायें कि जिस मुख में सदा खीसें निपोरी रहती हैं, कितने समंद की मसि लें और कितने ग्रहों की धरती को कागद करें इसको बखानने में?

तो शुकुल दिवस पर यही कामना है कि वह दिन-पर-दिन इसी तरह बसियाते रहें जिससे इनकी चावल वाली महक, दारू वाली मस्ती और अचार का चटपटापन न केवल बरकरार रहे बल्कि बढता भी रहे.

5 comments:

pankaj said...

भैया ठलुआ जी - लसियाना क्या होता है

इंद्र अवस्थी said...

लसियाना चिपकूपने जैसी कला होती है. इसके कर्ता और कर्म दोनों फिर एक दूसरे से छुटाये नहीं छूटते.

राजेश कुमार सिंह said...

हालाँकि अनुगूँज का बिल्ला तो इस पर लगा नहीं है , फिर भी मैं इसे "संगति की गति" में शामिल करूँगा। (क्योंकि "अनुगूँज" पर आप अलग से तो लिखने से रहे।) अब , अगर , आप यह सूचना मिलने पर , "अनुगूँज" का बिल्ला लगा दें , तो क्या कहने ? सोने में सुहागा !

-राजेश

अनूप शुक्ला said...

अब यह तय करने में तो सैकडॊ़ ,आडीटर /आयोग 'बैठ' जायेंगे लेकिन बैलेंस सीट नहीं बन पायेगी.हम तो मुस्कराने की
लाइलाज बीमारी से घायल यही कह पाने की
हालत में है:-
वक्त/आलस ने तुमको निकम्मा कर दिया ठेलुहे,
वर्ना आइटम तुम थे क्या(?) काम के.
आफिस में बैठके कोई भी खुराफात करने का यही
नुकसान होता है कि वह वहां खतम हो जाती है जहां
लगता है-अब मजा आ रहा है.

Pratyaksha said...

इस (:-) उद्योग में आप भी खासे ओहदेदार हैं !
मज़ा आ गया, लेकिन अनूप जी ने ठीक कहा ,वहीं खत्म कर दिया जब रंग जोर पकड रहा था.
प्रत्यक्षा